Search

जयपाल सिंह- भारतीय हॉकी और जनजातीय अधिकारों की कप्तानी

1928 में, भारत ने पहली बार ओलंपिक के लिए एक आधिकारिक दल भेजा जिसमें एक हॉकी टीम भी शामिल थी। हॉकी टीम की कप्तानी जयपाल सिंह ने की थी, जिन्होंने ऑक्सफोर्ड में अपनी पढ़ाई के दौरान अपने हॉकी कौशल को श्रेष्ठ बनाया था। सिंह के हॉकी कौशल ने उन्हें ऑक्सफोर्ड ब्लू - विश्वविद्यालय का सर्वोच्च खेल सम्मान दिलाया। यह उन्हें भारतीय हॉकी प्रशासन के नजरों में ला दिया।


इसलिए, जब हॉकी टीम को ओलंपिक में भेजने की बात आई, तो भारतीय हॉकी अधिकारीयों ने टीम की कप्तानी कराने के लिए जयपाल सिंह के पास पहुंचे। सिंह उस समय इंग्लैंड में भारतीय सिविल सेवा (आईसीएस) के लिए प्रशिक्षण ले रहे थे। सिविल सेवा प्राधिकरण ने उन्हें प्रशिक्षण छोड़ने और हॉकी टीम की कप्तानी करने की अनुमति नहीं दी। जयपाल सिंह ने बीच में ही प्रशिक्षण छोड़ दिया और 1928 के ओलंपिक में हिस्सा लेने का निर्णय लिया। इसके लिए उन्हें फटकार लगाई गई, और इसके बाद उन्होंने अंततः आईसीएस से इस्तीफा दे दिया।


उनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने लीग चरण में 17 मैच खेले जिनमें से 16 जीते और एक ड्रॉ रहा। हालांकि, सिंह कप्तान के रूप में टीम के साथ अंत तक नहीं रहे। उन्होंने प्रबंधन के साथ मतभेदों के कारण अंतिम चरण से पहले कप्तानी छोड़ दी। इसके पीछे तर्क दिया जाता है कि सिंह का आदिवासी समुदाय से होना एक कारण था।


Image Credits: St John’s College, Oxford Archive Photo I.F.4

1928 के ओलंपिक खेलों में अपने शानदार प्रदर्शन के बाद, सिंह ने कुछ समय विदेश में एक प्रशिक्षक की भूमिका निभाई और 1937 में भारत लौट आए। अपनी वापसी पर, उन्होंने भारत में आदिवासी अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण राजनीतिक भूमिका निभाई। 1939 के आसपास उन्हें आदिवासी महासभा के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था।


7 साल बाद, 1946 में, सिंह बिहार से संविधान सभा के लिए चुने गए और उन्होंने आदिवासी अधिकारों की वकालत जारी रखी। वह संविधान सभा के लिए चुने जाने वाले कुछ निर्दलीय उम्मीदवारों में से एक थे। सिंह ने वित्त और कर्मचारी समिति, सलाहकार समिति और बहिष्कृत और आंशिक रूप से बहिष्कृत क्षेत्रों (असम के अलावा) के उप-समिति के सदस्य के रूप में भी कार्य किया।


शुरुआती बहस के दौरान, सिंह ने संविधान सभा में आदिवासियों के प्रतिनिधित्व की कमी, विशेष रूप से एक भी आदिवासी महिला सदस्य न होने पर दुःख व्यक्त किया। उद्देश्य प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान, उन्होंने आदिवासी लोगों के शोषण और जमीनों से बेदखल कर दिए जाने के अस्थिर इतिहास पर प्रकाश डाला, लेकिन उन्हें फिर भी उम्मीद थी कि स्वतंत्र भारत लोगों के लिए एक नया अध्याय पेश करेगा, “जहाँ अवसर की समानता होगी, जहाँ किसी को नजरअंदाज नहीं किया जायेगा।"


सिंह ने स्वतंत्रता के बाद भी आदिवासी अधिकारों के लिए प्रयास करना जारी रखा और आदिवासी कल्याण को बढ़ावा देने के लिए एक अलग राज्य - झारखंड की मांग की। सिंह का निधन 20 मार्च 1970 को दिल्ली में हुआ था। आदिवासी महासभा, जिसके वे पहले अध्यक्ष थे, ने उनकी मृत्यु के तीस साल बाद 2000 में झारखंड बनाने के अपने उद्देश्य को प्राप्त किया।


This piece is translated by Kundan Kumar Chaudhary from Constitution Connect.

0 comments

Recent Posts

See All

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अधिनियम संशोधन की वैधता

पृथ्वी राज चौहान बनाम भारत संघ निर्णय का सामान्य सारांश अनुसूचित जातियों (एस.सी.) और अनुसूचित जनजातियों (एस.टी.) के खिलाफ होने वाले अपराधों को रोकने के लिए अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार न

आपराधिक आरोप तय हो जाने पर चुनावी अयोग्यता

पब्लिक इंटरेस्ट फाउंडेशन बनाम भारत संघ निर्णय का सामान्य सारांश 25 सितंबर 2018 को न्यायालय ने चुनावी अयोग्यता मामले में अपना फैसला सुनाया। पांच न्यायाधीशों की खण्डपीठ ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि वह

प्रशांत भूषण के खिलाफ अवमानना ​​याचिका

निर्णय का सामान्य सारांश सर्वोच्च न्यायलय ने प्रशांत भूषण के दो ट्वीट्स पर स्वत: संज्ञान लिया : एक, ट्ववीट वह था जिसमें उन्होंने पिछले छह वर्षों से भारत के लोकतंत्र के 'विनाश' में सर्वोच्च न्यायालय की